मकान देख रहे है मगर घर बनाने की किसी को फ़िक्र नहीं,सारे रिश्ते उलझ गये है धागों की तरह जैसे उसे सम्भालने की किसी को फ़िक्र नहीं ।

मकान देख रहे है मगर घर बनाने की किसी को फ़िक्र नहीं,सारे रिश्ते उलझ गये है धागों की तरह जैसे उसे सम्भालने की किसी को फ़िक्र नहीं ।

0 comments: