हर सफ़र लाजवाब था ज़िंदगी का जिस सफ़र से हम तूफ़ान बनके गुज़रे,देखते रहे समंदर को नज़दीक से जब हम हर हालात से गुज़रे ।

हर सफ़र लाजवाब था ज़िंदगी का जिस सफ़र से हम तूफ़ान बनके गुज़रे,देखते रहे समंदर को नज़दीक से जब हम हर हालात से गुज़रे ।

0 comments: