मंज़िले वही है सिर्फ़ ठिकाने बदल रहे है, हर शकस बदल रहा है अपने लिबास वक़्त की नाजकत को देखकर जैसे उन्हें चाहने वाले बदल रहे है ।

मंज़िले वही है सिर्फ़ ठिकाने बदल रहे है, हर शकस बदल रहा है अपने लिबास वक़्त की नाजकत को देखकर जैसे उन्हें चाहने वाले बदल रहे है ।

0 comments: