बहुत दूर से आए है तभी तो किसी के क़रीब जाने की हसरत नही होती,जब भी उछालते है सिक्का हवा में तो नसीब बदलने की हसरत नहीं होती ।

बहुत दूर से आए है तभी तो किसी के क़रीब जाने की हसरत नही होती,जब भी उछालते है सिक्का हवा में तो नसीब बदलने की हसरत नहीं होती ।

0 comments: