मोहब्बत अदावत वफ़ा बे-रुख़ी किराए के घर थे बदलते रहे...

मोहब्बत अदावत वफ़ा बे-रुख़ी किराए के घर थे बदलते रहे...

0 comments: