मुसकान भी कितनी नादान है , बेवजह लबो पे आ जाती है खुशी से !

मुसकान भी कितनी नादान है ,
बेवजह लबो पे आ जाती है खुशी से !

0 comments: