ख़ंजर लगा के सीने पे इल्ज़ाम क्या लगाया ... दिल अगर मेरा था ... तो पहले ख़्वाब क्यो न आया !

ख़ंजर लगा के सीने पे इल्ज़ाम क्या लगाया ... दिल अगर मेरा था ... तो पहले ख़्वाब क्यो न आया !

0 comments: