तकलीफ ए रहगुजर से न जा़या कीजिऐ , ताश है अगर ज्जबात , तो कम से कम खेल भी बता़या कीजिऐ !

जरा जरा सा ही इतेफाक है ,
उगंलिया उठी भी नही मगर मोह्बबत का हमपे इल्जाम है !

0 comments: