क्या पता कब गुज़र जाए ये ज़िंदगी इसलिए ज़िंदगी को ख़ुशी से जी रही हूँ मैं, मौत अब आ जाए भी तो ग़म नही है क्यूँकि हर हसीन पल को जी रही हूँ मैं

क्या पता कब गुज़र जाए ये ज़िंदगी इसलिए ज़िंदगी को ख़ुशी से जी रही हूँ मैं, मौत अब आ जाए भी तो ग़म नही है क्यूँकि हर हसीन पल को जी रही हूँ मैं

0 comments: