सब मेरे बग़ैर मुतमइन हैं मैं सब के बग़ैर जी रहा हूँ

सब मेरे बग़ैर मुतमइन हैं मैं सब के बग़ैर जी रहा हूँ

0 comments: