बिन तुम्हारे कभी नहीं आई क्या मिरी नींद भी तुम्हारी है

बिन तुम्हारे कभी नहीं आई क्या मिरी नींद भी तुम्हारी है

0 comments: