किसीने वक्त समझकर गुजार दिया हमे तो क्या हुआ... हम तो आज भी उन्हें जिंदगी बनाकर जी रहे हैं...

किसीने वक्त समझकर गुजार दिया हमे तो क्या हुआ... हम तो आज भी उन्हें जिंदगी बनाकर जी रहे हैं...

0 comments: