ये ठंडी सुबह की पुरवाई भी चुभने लगी कुछ कुछ तेरी यादों सी जो अब खटकने लगी....

ये ठंडी सुबह की पुरवाई भी चुभने लगी कुछ कुछ तेरी यादों सी जो अब खटकने लगी....

0 comments: