कब तक खुद को रोक लूं तेरे करीब आने से, ढूंढता रहता हूं यही बहाना किसी बहाने से...

कब तक खुद को रोक लूं तेरे करीब आने से, ढूंढता रहता हूं यही बहाना किसी बहाने से...

0 comments: