Phir bhee chot lagatee hai, phir bhee dard hota hai haath mein zamaane ke, teer hain na khanjar hain


Phir bhee chot lagatee hai, phir bhee dard hota hai haath mein zamaane ke, teer hain na khanjar hain

फिर भी चोट लगती है, फिर भी दर्द होता है हाथ में ज़माने के, तीर हैं न ख़ंजर हैं

0 comments: